Tuesday, 13 March 2012


मत दिखाओ मेरे पावोँ को अपने मन की सड़क
फिर क्या पता वो रास्ता मुझे रास आ जाए

10 comments:

  1. मन की सरक का प्रतीक नाय तो है ही सार्थक भी है । आपका यह शेर बहुत पसन्द आया

    ReplyDelete
  2. Komal anubhuutiyon kee hridya sparshee abhivykti.Badhai,Anitaji.

    Meethesh Nirmohi,Jodhpur[Rajasthan].

    ReplyDelete
  3. Komal anubhuutiyon kee hridaya isparshee abhivyakti.
    Badhai,Anita ji.

    MEETHESH NIRMOHI,JODHPUR.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर..........
    आज पहली बार आना हुआ आपके ब्लॉग पर............

    दिल आ गया.......

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  5. pls accept my belated birthday wish too.........
    :-)
    many many happy returns of the day..

    anu

    ReplyDelete
  6. बहुत उम्दा शेर कहा है अनिता जी! वाह!

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर शेर कहा है अनिता जी! बधाई!

    ReplyDelete