Wednesday, 13 March 2013

सपनों के फ़ाहे


सपनों के फ़ाहे

कल रात नींद मेरी
कुछ जख्मी हो गयी थी
चलूँ, आज रात सपनों के
कुछ फ़ाहे और पैबंद लगा दूँ

3 comments:

  1. अनीता जी, मुझे आपकी यह छोटी-सी कविता बेहद पसन्द है। कई बार पढ़ी है, हर बार नई सी लगती है।

    ReplyDelete
  2. sapnon ko faahe aur paiband :)
    khubsurat...

    ReplyDelete
  3. AAJ HEE AAPKEEH YE PANKTIYAN PADHEE HAIN . KHOOB ! BAHUT
    KHOOB !! BAHUT HEE KHOOB !!!

    ReplyDelete